Saturday , 4 December 2021

बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडालों पर हमला, पाकिस्तान समर्थित जमात-ए-इस्लामी का हाथ

नई दिल्ली: दक्षिणी बांग्लादेश में कुछ दुर्गा पूजा पंडालों में अज्ञात लोगों द्वारा तोड़फोड़ किए जाने के बाद हिंसा में कम से कम चार लोगों के मारे जाने के एक दिन बाद शुक्रवार को एक रिपोर्ट में कहा गया कि हमलों के पीछे पाकिस्तान समर्थित जमात-ए-इस्लामी (जेईआई) का हाथ है।

हमलों के मद्देनजर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने 22 जिलों में अर्धसैनिक बल तैनात किया था। उन्होंने दोषियों को न्याय के कटघरे में खड़ा करने का भी वादा किया था।

इस बीच, विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि नई दिल्ली “बांग्लादेश में धार्मिक सभाओं में हमलों से जुड़ी अप्रिय घटनाओं की परेशान करने वाली रिपोर्ट” के संबंध में ढाका के संपर्क में है।

बागची ने आगे कहा कि बांग्लादेश की सरकार ने स्थिति को नियंत्रित करने में कोई समय बर्बाद नहीं किया। उन्‍होंने कहा, ”हम यह भी समझते हैं कि सरकारी एजेंसियों और बड़ी संख्या में जनता के समर्थन से बांग्लादेश में दुर्गा पूजा का चल रहा उत्सव समारोह जारी है। बांग्लादेश में हमारा मिशन और पोस्ट ढाका और स्थानीय स्तर पर अधिकारियों के साथ निकट संपर्क में हैं।”

हिंसा को रोकने के लिए, बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (बीजीबी) के सैनिकों को 64 प्रशासनिक जिलों में से 22 और देश भर में अन्य जगहों पर तैनात किया गया था। रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) और सशस्त्र पुलिस को भी अलर्ट पर रखा गया है। कमिला की सीमा से लगे चांदपुर के हाजीगंज उप-जिले में मुस्लिम कट्टरपंथियों और पुलिस के बीच संघर्ष में तीन लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। चौथे ने बाद में दम तोड़ दिया।

शेख हसीना ने कहा, “कमिला की घटनाओं की गहन जांच की जा रही है। किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे किस धर्म के हैं। उनका शिकार किया जाएगा और उन्हें दंडित किया जाएगा।” उन्होंने कहा, “हमें बड़ी मात्रा में जानकारी मिल रही है। यह तकनीक का युग है और इस घटना में शामिल लोगों को निश्चित रूप से प्रौद्योगिकी के उपयोग से ट्रैक किया जाएगा।

उन्होंने आगे भारत से किसी भी सांप्रदायिक हिंसा की वृद्धि के प्रति सतर्क रहने की अपील की।

बांग्लादेश की 16.9 करोड़ आबादी में हिंदुओं की संख्या करीब 10 फीसदी है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com