Thursday , 30 June 2022

मुंह मांगी मुराद होगी पूरी, अगर आज ऐसे करें साईं बाबा का व्रत

Loading...

साईंबाबा के बारे में कहा जाता है कि यदि सच्चे मन से साईं की समाधि पर माथा टेकेंगे तो आपकी हर मुराद पूरी होगी। कहा जाता है कि जब साईं बाबा भक्ति को कबूल कर लेते हैं तो इस बात की किसी न किसी रूप में सूचना भी दे देते हैं।

12 अप्रैल दिन बुधवार का पंचांग: जाने कैसा रहेगा आज आपका दिनमुंह मांगी मुराद होगी पूरी, अगर आज ऐसे करें साईं बाबा का व्रतसाईं न हिन्दू हैं और न मुसलमान, वे सिर्फ अपने भक्तों के दु:ख-दर्द दूर करने वाले हैं। कहते हैं अगर साईं बाबा का व्रत 9 गुरुवार तक लगातार किया जाए, तो साईं भक्त की हर मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। फिर चाहे वह मनोकामना नौकरी, शादी, स्थानांतरण की हो या फिर किसी भी तरह की। आइए आपको बताते हैं साईं व्रत और उसके नियम।

Loading...
1-साईं व्रत कोई भी कर सकते हैं चाहे वो स्त्री हो या पुरुष हो और या बच्चे।
2-यह व्रत किसी भी जाति-पाति के भेद भाव बिना कोई भी व्यक्ति कर सकता है।
3- 1, 9, 11, अथवा 21 गुरुवार व्रत करने से निश्चित ही मन चाहा फल प्राप्त होता है।
4-इस व्रत को श्री साईं बाबा जी का नाम लेकर किसी भी गुरुवार से आरम्भ कर सकते हैं। जिस कार्य के लिए व्रत किया गया हो उसके लिए श्री साईं बाबा जी से सच्चे मन से प्रार्थना करनी चाहिए।
5-किसी आसन पर पीला कपड़ा बिछाकर उस पर श्री साईं बाबा जी की तस्वीर रखकर स्वच्छ जल से पोंछकर चन्दन या कुमकुम का तिलक लगाना चाहिए और उन पर पीला फूल या हार चढ़ाकर प्रसाद में कोई भी फल या मिठाई बंटी जा सकती है।
6-यह व्रत फलाहार लेकर किया जा सकता है जैसे दूध, चाय, फल, मिठाई आदि लेकर अथवा एक समय भोजन करके किया जा सकता है।  बिल्कुल भूखे रहकर उपवास नहीं करना चाहिए।

घर के इस कोने में जलाएं लाल रंग की मोमबत्ती, दूर होगी आर्थिक तंगी

7-प्रत्येक गुरुवार हो सके तो साईं बाबा के मन्दिर जाकर दर्शन करने चाहिए।  साईं बाबा के मन्दिर ना जा सके तो श्रद्धापूर्वक घर में ही साईं बाबा की पूजा की जा सकती है।

8-यदि किसी करणवश गुरुवार को कहीं जाना हो तो व्रत को नियमनुसार सुचारू रखना चाहिए।
9-यदि किसी कारणवश किसी गुरुवार व्रत ना कर पाए तो उस गुरुवार को गिनती में ना लेते हुए मन में किसी प्रकार की शंका ना रखते हुए, अगले गुरुवार से व्रत जारी रखें।  मन्नत माने हए गुरुवार पूरे कर व्रत का उध्यापर करें।
10-एक बार मन्नत अनुसार व्रत पूर्ण करने के बाद फिर मन्नत कर सकते हैं, और फिर व्रत कर सकते हैं।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com