Wednesday , 18 May 2022

जियो के इस ऐलान से खड़ी हो गयी एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया की खटिया; पूरी दुनिया हैरान

Loading...

जियो तो पूरे देश में तहलका मचा दिया है। लोग घंटों लाइनों में लग लग कर एक सिम का मिलने का इंतजार कर रहे हैं| अब जियो के एक और कमाल से दूसरी कंपनियों के होश उड़ गए हैं। जियो ने सिर्फ बयाने में इतनी रकम जमा की है जितनी कंपनियों को एक साल में भी नहीं कर पातीं। 

Loading...
जियो के इस ऐलान से खड़ी हो गयी एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया की खटिया; पूरी दुनिया हैरान

जियो ने बयाने के रूप जमा किए 6,500 करोड़

रिलायंस जियो इन्फोकॉम स्पेक्ट्रम की बोली लगाने में आक्रामक रुख अख्तियार करने वाला है। इतना आक्रामक कि प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के अनुमान को भी पार कर जाए। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जियो ने बयाने के रूप में करीब 6,500 करोड़ रुपये जमा करवा दिए। यह राशि एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया, टॉप तीनों कंपनियों द्वारा जमा की गई राशि के लगभग बराबर है। यानी, 1 अक्टूबर से शुरू हो रहे स्पेक्ट्रम नीलामी के प्रति मुकेश अंबानी के मालिकाना हक वाली कंपनी का इरादा आक्रमक है।
किसने कितने जमा किए
नीलामी प्रक्रिया की जानकारी रखने वाले लोगों ने बताया कि भारती एयरटेल ने करीब 1,980 करोड़ रुपये, वोडाफोन इंडिया ने करीब 2,745 करोड़ रुपये और आइडिया सेल्युलर ने करीब 2,050 करोड़ रुपये जमा कराए हैं।
उन्होंने बताया कि टाटा टेलिसर्विसेज ने भी 1,000 करोड़ रुपये जमा कराए हैं जबकि रिलायंस कम्यूनिकेशंस और एयरसेल ने क्रमशः 313 करोड़ और 120 करोड़ रुपये जमा कराए हैं।

क्या कहते हैं अधिकारी

एक सीनियर अधिकारी ने कहा,
“बयाने की रकम के सामान्य आकलन से पता चलता है कि सरकार को सिर्फ रिजर्व प्राइस पर एयरवेव्स की बिक्री से 1.5 लाख करोड़ की कमाई हो सकती है जबकि इससे 55,000 करोड़ रुपये का अग्रिम भुगतान भी होगा”
हालांकि, विश्लेषकों की राय अलग है। उनका कहना है कि सरकार एयरवेव्स की अब तक की सबसे बड़ी बिक्री में 80,000 करोड़ रुपये के करीब
कमाएगी।

टेलिकॉम से 98,995 करोड़ रुपए कमाएगी सरकार

वित्त मंत्रालय ने टेलिकॉम से 98,995 करोड़ रुपये का रेवेन्यू जुटाने का प्रावधान किया है जिसमें इस वित्तीय वर्ष में 55,000 करोड़ रुपये से भी कम की स्पेक्ट्रम नीलामी भी शामिल है। बाकी रकम पिछले साल की नीलामी से मिलने वाली लेवी और सेवाओं के साथ-साथ बकाये के विभिन्न मद से आने का अनुमान है।

जियो के रवैये से इंडस्ट्री हैरान

नीलामी को लेकर जियो के रवैये से इंडस्ट्री हैरान है क्योंकि सबका अनुमान था कि कंपनी इस बार जियो बहुत आक्रमक बोली नहीं लगाकर सिर्फ कवरेज गैप को भरेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि हालिया नीलामी में जियो पर्याप्त क्षमता हासिल कर चुका है। साथ ही उसने रिलायंस कम्यूनिकेशंस के साथ भी शेयर और ट्रेडिंग पैक्ट किया है।
एक टॉप एग्जिक्युटिव ने कहा, ‘
“हम जियो का डिपॉजिट देखकर हैरान हैं। यह हमारे आकलन से ज्यादा है और उसका (जियो का) इरादा बताता है”

मुसीबत में वोडाफोन, आइडिया

एयरटेल ने आराम से डेटा स्पेक्ट्रम होल्डिंग्स हासिल कर ली। ऐसे में वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर नीलामी के लिए बढ़ती गहमा-गहमी में सबसे ज्यादा प्रभावित हो सकतै हैं क्योंकि उनके पास 4G एयरवेव्स खरीदने के अलावा कोई चारा नहीं है। इन फ्रिक्वेंसीज के बिना उनके हाशिए पर चले जाने का खतरा रहेगा क्योंकि लड़ाई अब मोबाइल डेटा के क्षेत्र में छिड़ी है।
सर्कल्स के आधार पर वोडाफोन और आइडिया के 4G एयरवेव्स होल्डिंग्स एयरटेल और जियो के आधे से भी कम हैं। सरकार सातों बैंड्स पर 2354.55 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी करने जा रही है और पहली बार 700 मेगाहर्ट्ज बैंड्स के लिए भी नीलामी हो रही है।
 

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com