Wednesday , 17 August 2022

ट्रंप के सत्ता संभालने से पहले ही जीत गए मोदी, चीन की हवा टाइट, खुलेआम क़ुबूली हार

Loading...

trump-modiट्रंप ने अभी आधिकारिक तौर पर अमेरिका की गद्दी संभाली भी नहीं है। लेकिन शुरुआत से ही ट्रंप का मोदी की तरफ झुकाव और चीन के प्रति रूखी बयानबाजी और चेतावनियों से चीन की हवा टाइट हो गयी है। चीन ने ट्रंप पर निशाना साधते हुए विवादित बयान दिया है।

चीन की हवा टाइट

चीन, अमेरिका और भारत की बढ़ती नजदीकियों से तो हैरान है ही वहीं रूस से भारत के हमेशा से अच्छे संबंध भी चीन की आंखों में खटक रहे हैं। तीनों ताकतवर देशों के बीच घिरते चीन को अपनी बादशाहत पर खतरा मंडराता साफ नजर आ रहा है जिसके चलते उसने ट्रंप पर निशाना साधते हुए अमेरिका के साथ युद्ध की चेतावनी दी है। चीनी अखबार ने लिखा है कि अगर अमेरिका से युद्ध की स्थिति आती है तो चीन युद्ध से पीछे नहीं हटेगा और अमेरिका को करारी शिकस्त देगा।

चीनी अखबार ने ट्रंप को एक नौसीखिया बताया है साथ ही उसने लिखा है कि अमेरिका और चीन के बीच तनाव और युद्ध की स्थिति काफी महंगी साबित होगी, लेकिन चीन अपने इरादों से पीछे नहीं हटेगा। माना जाता है कि चीनी अखबार अपने देश की कम्युनिस्ट सरकार के इशारों को खूब समझते हैं और वे वही लिखते हैं जो कि वहां की सरकार लिखवाना चाहती है। कूटनीतिक दांवपेचों के कारण जो बात सरकार सीधे नहीं कह पाती, उसे वह अपने अखबारों के माध्यम से प्रकाशित करवाती है।

अखबार ने लिखा है अगर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ‘वन-चाइना पॉलिसी’ को तुरुप के पत्ते की तरह इस्तेमाल करते हैं तो पेइचिंग को इस विवाद को खत्म करने के लिए सारे हथकंडे अपनाने पड़ेंगे जो अमेरिका के लिए हानिकारक साबित होंगे। ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा है कि पहले भी ट्रंप ऐसी हरकतें करके हमें नाराज कर चुके हैं, लेकिन उनकी बार बार की बचकानी हरकतों पर अब हमें हंसी आती है।

Loading...

बता दें कि चीन अपनी वन चाइना पॉलिसी के मुताबिक ताइवान को अपना अभिन्न हिस्सा बताता है और अमेरिका अपनी आदत से बाज ना आकर बार बार इस नियम का उल्लंघन करता रहा है। अमेरिका और चीन के बीच करीब 40 साल पहले कूटनीतिक रिश्ते दोबारा बहाल हुए थे। दोनों के आपसी रिश्ते में ‘वन चाइना’ काफी अहम है।

चीन ने कहा है कि अगर ट्रंप सरकार अच्छी तरह अपना शासन चलाएगी तो चीन भी उसके साथ सौहार्द्य पूर्ण रिश्ते कायम करके रखेगा और हमें ट्रंप से ये उम्मीद भी है लेकिन ट्रंप इसी तरह चीन के प्रति आक्रामक रुख अपनाते रहेंगें तो चीन को उन्हे मुंहतोड़ जवाब देना ही पड़ेगा।

खबरों के मुताबिक चीन इस समय अमेरिका के साथ भारत के बढ़ते संबंधों को लेकर काफी परेशान है और रूस भी हमेशा से ही भारत के साथ खड़ा होता आया है। जिस कारण चीन इन तीनों मजबूत देशों के बीच अपने आप को घिरता हुआ महसूस कर रहा है। ऐसे में चीन ऐसे ऊट पटांग बयान दे रहा है।

बता दें कि चीन शुरुआत से ही भारत की एनएसजी में सदस्यता का विरोध करता आया है और अमेरिका शुरुआत से ही भारत के साथ मजबूती से खड़ा रहा है और उसने इसी बात को लेकर चीन को लताड़ भी लगाई थी।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com